भारत मे शिवरात्री का महत्व

भारत मे शिवरात्री का महत्व  बहोत है, देशभर मी महाशिरात्री का पर्व धूमधाम से मनाया जाता है! पौराणिक कथाके अनुसार महाशिवरात्री के दिन भगवान शिव और माता पार्वती का विवाह हूआ था!

 

इसी कारण यह तेवहार के रूप मी मनाया जाता है!

जोतिर्लिंग का अभिषेक येवम पूजा अर्चना कर रहे भक्तो को काफी पुण्य कि प्राप्ती होती है!

 

कावड यात्रा के दर्मियान शिव के भक्त तीर्थ स्थलों पर भगवान शिव के शिवलिंग का अभिषेक करते है!

 

भारत मी शिवलिंग द्वाप्द और त्रेता युग है, जीन्मे से ज्यादा तर का संबंध पंडवो से है!

पांडव ने वनवास के दर्मियान भगवान शिव के काफी शिवलिंग कि अस्तापना कि थी !

महाशिवरात्री का महत्व:

हिमाचल प्रदेश:

 

पांडव रचित शिवमंदिर के लिये हिमाचल प्रदेश प्रसिद्ध है!

१) ममलेश्वर महादेव मंदिर :- पांडवो ने उनके १२ साल के वनवास के समय हिमाचल प्रदेश मे अपना वक्त बिताया था !

वही पर उन्होने ममलेश्वर महादेव मंदिर का निर्माण किया! पांडवो के मन मी भगवान शिव के लिये आस्था थी! भीम कि मुलाखत हिंदीबा से हुई थी, जो बाद मे उनकी पत्नी बनी!

इस शिवमंदिर मे भीम का ढोल मौजूद है!

Also Read: शिव मंदिर के अनोखे रहस्य

२) अघांजर महादेव मंदिर हिमाचल प्रदेश :-

अघांजर महादेव मंदिर हिमाचल प्रदेश
अघांजर महादेव मंदिर हिमाचल प्रदेश

धर्मला से लगभग 20 किलोमीटर दूर धौलीधर की तलहटी में स्थित खनियारा गाँव में शिव भक्तों का दल अपने दर्शन के लिए पहुँच रहा है।

यह खनियारा गांव में भगवान महादेव का एक प्राचीन मंदिर है, जिसे लगभग 500 साल पहले बनाया गया था।

यह मंदिर अघनजर महादेव के नाम से प्रसिद्ध है। इस मंदिर के बारे में कहा जाता है कि इसकी स्थापना महाभारत काल की है।

किंवदंतियों के अनुसार, अर्जुन ने खनियारा गांव में महाभारत के बराह त्योहार में भगवान शिव से पशुपति हथियार प्राप्त किया था।

इसके कई जीवित उदाहरण इस मंदिर के परिवेश में भी देखे जा सकते हैं। मंदिर वनों और उभरे पहाड़ की चोटियों के बीच स्थित है। रमणीय सेटिंग के अलावा, एक छोटा झरना तीर्थ की सुंदरता को दर्शाता है।

 

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published.